“रोटी और परांठे एक नहीं ” पहले रोटी पर 5% और अब परांठे पर लगेगा 18% GST


अगर आप पराठे खाने के शौकीन है तो इसके लिए आपको ज्यादा खर्च करना पड़ेगा। गुजरात की अपीलेट अथॉरिटी ऑफ एडवांस रूलिंग (AAAR) का कहना है कि रोटी और पराठे में काफी अंतर है। रोटी पर पांच फीसदी GST लगता है जबकि पराठे पर 18 फीसदी GST लगेगा। यह फैसला अहमदाबाद की कंपनी वाडीलाल इंडस्ट्रीज की अपील पर आया है।

यह कंपनी कई तरह के रेडी टु कुक यानी फ्रोजन पराठे बनाती है। कंपनी की दलील थी कि रोटी और पराठे में ज्यादा अंतर नहीं है। दोनों आटे से ही बनती हैं, इसलिए पराठे फर भी पांच फीसदी GST लगना चाहिए। न केवल इन्हें बनाने की प्रक्रिया मिलती जुलती है बल्कि उनकी इस्तेमाल और उपभोग का तरीका भी समान है। लेकिन AAAR ने कंपनी की इस दलील को खारिज कर दिया और साफ किया कि पराठे पर 18 फीसदी GST लगेगा।

रोटी में 5% और पराठे पर 18% GST

रोटी, चपाती और नान पर 5% GST और पराठे पर 18% GST लगाया गया था। इस संबंध में कई पार्टियों के द्वारा भी AAAR में अपील की है, जो केंद्र सरकार के GST टैक्स से जुड़े मामलों को देखती है। AAR ने कहा कि अपीलकर्ता द्वारा आपूर्ति किए जा रहे पराठे और सादी चपाती या रोटी से अलग हैं।

चपाती और पराठे में काफी अंतर: AAR

इसे सादे चपाती या रोटी की श्रेणी के तहत नहीं माना जा सकता है, जिसे GAAR (जनरल एंटी-अवॉइडेंस रूल्स) ने भी सही माना है। GAAR ने गुजरात के अथॉरिटी फॉर एडवांस रूलिंग के जून 2021 के आदेश को प्रभावी ढंग से बरकरार रखा है, जिसमें कहा गया था कि ऐसे पैकेज्ड पराठों को दोनों तरफ से सुनहरा भूरा होने तक 3-4 मिनट पकाने की आवश्यकता होती है, और रोटी व पराठे में अंतर होता है।

रेडी-टू-कुक डोसा, इडली, दलिया में लगता है 18% GST

पिछले साल अगस्त में तमिलनाडु AAAR ने फैसला सुनाया था कि रेडी-टू-कुक डोसा, इडली, दलिया मिश्रण, आदि पाउडर के रूप में बेचे जाने पर 18% GST कर लगेगा। वहीं गुजरात AAAR ने फैसला सुनाया था कि पुरी पापड़ और बिना तले हुए पापड़ पर 5 प्रतिशत GST देय है। इसके साथ ही दिसंबर 2021 में कर्नाटक AAR ने फैसला सुनाया था कि रवा इडली डोसा पर 18 प्रतिशत GST देना पड़ेगा।