ऊंटनी का दूध ही नहीं आंसू भी होते है बहुत कीमती, जानें क्यों होते है है इतने खास ?


ऊंट के बारे में कई रहस्य हैं जिन्हें रेगिस्तान का जहाज कहा जाता है। गर्म क्षेत्रों में ऊंट अधिक आम हैं। देश में ऊँटों की कुल संख्या में से अधिक ऊँट राजस्थान में पाए जाते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि ऊंट का एक आंसू बहुत कीमती होता है। ऊंट के आंसू में प्रोटीन होने का दावा किया जाता है। ऊंट की शारीरिक संरचना पर विशेषज्ञ का अध्ययन जारी है और चौंकाने वाले तथ्य सामने आए हैं।​ऊंटनी के दूध की काफी डिमांड है। ऊंटनी का दूध देश-विदेश में ऊंचे दामों पर बेचा जाता है। यह दूध इंसानों के लिए पौष्टिक बताया जाता है। साथ ही अमेरिका, यूएई और भारत जैसे कुछ देशों में ऊंट के आंसू पर शोध चल रहा है। ऊंट के आंसू में कई तरह के प्रोटीन पाए जाते हैं।

ऊंट के दूध की खूब डिमांड होती है। इंसानों के लिए ये दूध बहुत फायदेमंद है, जिसके कारण इसकी कीमत लाखों में होती है। लोग मोटी कीमत चुकाकर ऊंटनी का दूध खरीदते हैं। न केवल भारत में बल्कि विदेशों में भी इसकी खूब डिमांड है। ऊंटनी का दूध अब 30 डॉलर प्रति लीटर यानी करीब 2500 रुपए प्रति लीटर बिक रहा है। रिपोर्ट की माने चो हर साल मात्र 3 मिलियन टन दूध ही ऊंटनी का उत्पादन होता है।

जहरीले सांप के काटने पर जान बचाता है

दुनिया भर में जहरीले सांपों की 250 प्रजातियों के जहर के लिए एंटीडोट्स अभी भी बड़ी मुश्किल से उपलब्ध हैं। ऊंट एंटीबॉडी का इस्तेमाल दुनिया भर में जहरीले सांप के काटने के लिए एक मारक के रूप में किया जा सकता है। साथ ही इसका एक और फायदा है। यानी किसी भी महिला-विरोधी स्टोर को कोल्ड चेन की जरूरत होती है। लेकिन ऊंट अपने शरीर के तापमान पर किसी भी मात्रा में गर्मी को अवशोषित कर सकते हैं। अगर एंटीवेनम में वही गुण आता है तो उसे स्टोर करने के लिए कोल्ड चेन की जरूरत नहीं पड़ेगी।

ऑटोइम्यून बीमारी का इलाज खोज रहे है वैज्ञानिक

यूएई और सऊदी अरब के कुछ विश्वविद्यालय ऊंट के आंसू पर शोध कर रहे हैं। इसका उद्देश्य एक ऑटोइम्यून बीमारी का इलाज खोजना है। इस रोग में आँसू उत्पन्न करने की क्षमता कम हो जाती है। इससे बैक्टीरिया और वायरल संक्रमण से लड़ने की क्षमता कम हो जाती है।​ ऊंट रेगिस्तान में रहते हैं। ऊंटों को रेगिस्तान में रेत से बचाने के लिए उनकी आंखों में एक विशेष सुरक्षा प्रणाली होती है। ऊंटों को आंखों में संक्रमण होने का खतरा कम होता है। ऊंट के आंसू न सिर्फ उनकी आंखों में नमी रखते हैं बल्कि उन्हें संक्रमण से भी बचाते हैं।